बुधवार, मार्च 18, 2009

पुल

3 टिप्‍पणियां:

neeshoo ने कहा…

भई थोड़ा बहुत लिखते तो देखने और समझने में आसानी होती ।

अजेय ने कहा…

likhne ki kya zaroorat hai?
dikh beshak kuchh nahi raha ,
"dekhne " ko to samjha hi ja sakta hai.

पारूल ने कहा…

khuubsurat...